Sirf Tumhare Shayari

Humein Seene Sey Lagaakar Humaari Saari Kasak Door Kar Do,
Hum Sirf Tumhare Ho Jayein Humeun Itna Majboor Kar Do…

हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो,
हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ हमें इतना मजबूर कर दो।

Love Shayari for Wife

Kash Main Paani Hota Aur Tu Pyaas Hoti
Na Main Khafa Hota Naa Tu Udaas Hoti
Jab Bhi Tum Meri Nigaahon Se Door Hoti
Main Tera Naam Leta Aur Tu Mere Paas Hoti …

Love Shayari for Wife from Husband.

Dil Ki Keemat Shayari

Dil

Wo Mujh Se Subho Shaam Poochte Hain
Chand Sitare Tera Naam Poochte Hain

Pehle Kaanon Mein Sargoshi Karte They
Ab Yehi Baat Wo Sar-E-Aam Poochte Hain

Pehle To Faqat Chand Sitare Poochte They
Ab Mere Sheher Ke Log Tamaam Poochte Hain

Unhe Mere Dil Ki Keemat Ka Andaza Nahi
Jo Mere Anmol Dil Ke Daam Poochte Hain

– M. Asghar Mirpuri

Independence Day Wishes for Muslim

Watan Ki Shaan Ke Khaatir,
Hatheli Pe Apni Jaan Rakhta Hun.

Musalman Hun Main Saccha,
Tabhi Dil Mein Hindustan Rakhta Hun!

Hindustan Zindabad and Enjoy Independence Eve!

हीरा ठाकुर की बीबी

पप्पूः बहुत परेशान दिख रहे हो, क्या बात है?

गप्पूः यहां रेलवे ग्रुप डी की तैयारी नहीं हो पा रही है और हीरा ठाकुर की बीबी हर हफ्ते आईएएस क्लियर कर देती है।

सोनल, हरदोई

पति-पत्नी और चीन घूमने का वादा

विदेश घुमाने नहीं ले जाने पर
कई दिनों से पत्नी झगड़ा कर रही थी…
.
.
.

अब चीन घुमाने के लिए कह रहा हूं तो मना कर रही है।

सलोनी, बिजनौर

Tiranga 15 August Shayari

एक दिन मन ही मन हमने ख्वाब बुन लिया,
औरों को दुपट्टा रास आया मैंने तिरंगा चुन लिया।

उन लोगों को हैपी रोज़ डे

जिन जिनकी गर्लफ्रेंड है, उन सबको हैपी रोज़ डे…
.
.
.
और जो सिंगल हैं,
भगवान उनके लिए खोज दे।

संजय, गुरुग्राम

आजकल भगवान की मेहरबानी

इन दिनों भगवान बर्फ और पानी दोनों गिरा रहे हैं…
.
.
.
बाकी का
इंतजाम आपको खुद करना है।
नित्यानंद, नोएडा

प्यार में पप्पू को पड़ी मार

अरे मुझसे प्यार ना था तो बता ही देती पगली….
.
.
.
पंचायत भवन के पीछे बुलाकर
पिटवाने का क्या मतलब था?

पप्पू, रायपुर

Gunahe-Ishq Dard Shayari

Gunahe-Ishq Mein Voh Daur Bhi Bahut Khaas Raha,
Jab Mera Na Hokar Bhi Tu Mere Bahut Pass Raha …

बेहोश होते-होते बचा मरीज

केमिस्ट: अगर इस दवाई से आराम न मिले तो डॉक्टर का पर्चा फिर से लाना।

मरीज: ऐसा क्यों?

केमिस्ट: मैं फिर से डॉक्टर की लिखी दवाई पढ़ने की कोशिश करूंगा।

शाकिब, दिल्‍ली