Gunaah Tarze-Nigaah

Gine Huye Kadam Inhraaf Kya Hote
Gunaah Tarze-Nigaah Tha, Maaf Kya Hota

Jhuki Hui Meir Aakhein, Sile Huye Mere Lab
Ab Is Se Badh Kar Tera Etraaf Kya Hota

Khud Apni Vehshate-Jaan Se Wafa Na Ki Hum Ne
Zamana Aur Humare Khilaaf Kya Hota

Diye To Ab Bhi Diye Hain Vo Bazm Ho Ki Harm
Bhujhe Huye Dilon-Jaan Se Tavaaf Kya Hota

Sitara Tha Bhi To Aansu Ki Istaara Tha
Kisi Falak Ka Yahan Inkishaf Kya Hota

Vahi Gubaare-Tammana, Vahi Shamime Dua
Tu Rozo Shab Mein Mere Ikhtilaaf Kya Hota…

– Parveen Shakir

Na Jane Kyo

न जाने क्यों हमें आँसू बहाना नहीं आता,
न जाने क्यों हाल-ऐ-दिल बताना नहीं आता,
क्यों सब दोस्त बिछड़ गए हमसे,
शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता

शादीशुदा व्यक्ति की हालत

ट्रेन में सफर करते हुए एक आंटी ने पप्पू से पूछा: आप कहां के हैं?
.
.
.
पप्पू ने कहा: मैं शादीशुदा हूं।
मैं कहीं का नहीं हूं।

अपूर्वा, कानपुर

Latest Raksha Bandhan Wishes for Sister

Ye Lamhaa Kuch Khaas Hai,
Sister Ke Haathon Me Brother Ka Haath Hai,
Oh Sister Tere Liye Mere Paas Kuch Khaass Hai,
Teri Happiness Ke Liye My Dear Sister,
Your Brother Always Tere Saath Hai …

Have a Wonderful Raksha Bandhan …

वॉट्सऐप पर Hi और Bye

मैं वॉट्सऐप पर दो तरह के
लोगों से परेशान हूं…
.
.
.

एक जो Hi बोलकर गायब हो जाते हैं और दूसरे वे जो Bye बोलकर 2 घंटे तक पीछा नहीं छोड़ते।

अर्पिता, जयपुर

चांदी का वरक क्यों

टीचर: काजू कतली पर चांदी का वरक क्यों होता है?

स्‍टूडेंट: यह मालूम करने के लिए कि वह उल्टी किधर से है और सीधी किधर से।

मदन, दिल्‍ली

व्रत क्यों रखती हैं लड़कियां

पप्पू: मां, ये लड़कियां इतने व्रत क्यों रखती हैं?

मां: बेटा, इतनी आसानी से किसी को तू थोड़े ही मिल जाएगा।

पप्पू (मन में): कसम से, आज पहली बार देवता वाली फीलिंग आ रही है।

देवेश, लखनऊ

Hindi Romantic Shayari

हर ख़ुशी मुझ से छूट गयी।
जो तुम मुझ से रूठ गयी।

अब जीता हु बस तेरे इंतज़ार में।
बस दे दो थोड़ा प्यार मुझे।

ये वादा है दूंगा हर कदम साथ तेरा।
बस थाम ले तू हाथ मेरा।

सच कर दूंगा हर ख्वाब तेरा।
चाहे हो जाऊ मैं खुद भी फ़ना।

मैं जीना तुम से सीखा हूं।
मर जाऊंगा तेरे बिना।

तू आजा फिर से पास मेरे।
फिर रख दे दिल पर हाथ मेरे।

मैं फिर से जीना चाहता हुँ।
तुझ को फिर पाना चाहता हुँ।

फिर हसना रोना चाहता हुँ।
तू चल दे बस साथ मेरे।

– ज़ुबैर इक़बाल, मुरादाबाद

Chiraag Ki Lo

Har Ik Chiraag Ki Lo Aisi Soyi-Soyi Thi
Voh Shaam Jaise Kisi Se Bichhad Ke Royi Thi

Naha Gaya Tha Main Kal Jugnuo Ki Baarish Mein
Voh Mere Kaandhe Pe Sar Rakh ke Khoob Royi Thi

Kadam-Kadam Pe Lahoo Ke Nishan Kaise Hain
Ye Sarjami To Mere Aansuon Ne Dhoyi Thi

Makaan Ke Saath Voh Podha Bhi Jal Gaya Jisme
Mehkate Phool The Phoolon Me Ek Titli Thi

Khood Uske Baap Ne Pehchaan Kar Na Pehchana
Voh Ladki Pichhle Fasadaat Me Jo Khoyi Thi…

– Bashir Badr

Bure Log Shayari

Mere Baare Mein Apni Soch Ko Thoda Badalkar Dekh,
Mujhse Bhi Burey Hain Log, Tu Ghar Se Nikalkar to Dekh …

Hindi Jokes on Budhapa

बंटू, “जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, दिन-प्रतिदिन इंसान रईस बनता जाता है।”
घंटु, “वो कैसे?”
बंटू, “बूढ़े होने पर चांदी बालों में, सोना दाँतों में, मोती आखों में, शुगर खून में और महंगे पत्थर किडनी में पाए जाने लगते हैं। “

Maa Kehti Thi Shayari

Maa Kehti Thi Meri Jaan Hai Tu,
Aur Beta Kisi Aur Ko Zindagi Maan Baitha …